अपर्णा की सेक्सी सिसकियाँ


Antarvasna, hindi sex story: दिनेश मुझसे मिलने के लिए घर पर आया हुआ था उस दिन रविवार का दिन था मैं घर पर ही था। सुबह के 9:00 बज रहे थे और दिनेश और मैं साथ में बैठे हुए थे दिनेश मुझसे काफी दिनों के बाद मिला था दिनेश ने मुझे बताया कि उसने नई कंपनी ज्वाइन कर ली है। मैंने दिनेश को उसके लिए बधाई दी और कहा कि चलो यह तो बड़ा ही अच्छा है। हम दोनों बातें कर रहे थे कि मां हम दोनों के लिए चाय बना कर ले आई और हम दोनों ने चाय पी। दिनेश और मेरी उस दिन काफी देर तक बातें हुई मुझे काफी अच्छा लगा उस दिन दिनेश से बातें कर के काफी लंबे समय के बाद वह घर पर आया था और मुझसे मिला था। जब दिनेश घर गया तो उस वक्त 12:00 बज रहे थे और मैंने भी सोचा कि क्यों ना आज ललित को मिल आऊं।

ललित को मिलने के लिए मैं उस दिन उसकी शॉप पर चला गया था। मैं ललित से मिला तो मुझे काफी अच्छा लगा और ललित भी काफी खुश था काफी दिनों के बाद मैं ललित को मिल रहा था। ललित ने मुझे बताया कि उसके भैया की शादी जल्द ही होने वाली है। हालांकि यह बात मुझे पहले से ही पता थी ललित ने मुझे शादी का कार्ड दिया और कहा कि तुम्हें भैया की शादी में आना है। मैं ललित के साथ करीब 3 घंटे तक बैठा रहा फिर मैं घर वापस लौट आया था। जब मैं घर वापस लौटा तो उसके बाद मैं अपने रूम चला गया और आराम करने लगा।  मुझे कुछ दिनों के बाद ललित के भैया की शादी में जाना था और मैं जब ललित के भैया की शादी में गया तो वहां पर मुझे काफी अच्छा लगा। ललित को भी बड़ा अच्छा लगा था जिस तरीके से हम लोगों ने उस दिन शादी का इंजॉय किया। मैं रात के वक्त घर लौट आया था, जब मैं घर लौटा तो उस दिन मुझे काफी देर हो गई थी और मैं घर पर ही था। काफी दिन हो गए थे मैं भोपाल नहीं जा पाया था तो मैंने सोचा कि क्यों ना कुछ दिनों के लिए मैं भोपाल चला जाऊं।

भोपाल में मेरी बड़ी बहन रहती है और उनसे मिले हुए मुझे काफी समय हो चुका था इसलिए मैं भोपाल जाना चाहता था। मैंने उस दिन ऑनलाइन टिकट बुक करवा दी। जिस दिन मुझे भोपाल जाना था उस दिन मैंने दीदी को फोन किया। यह बात मैंने उनसे अभी तक नहीं कही थी की मैं भोपाल आ रहा हूँ। जब मैंने दीदी से इस बारे में कहा तो दीदी मुझे कहने लगी कि क्या तुम वाकई में भोपाल आ रहे हो मैंने दीदी से कहा कि हां मैं भोपाल आ रहा हूं। मैं रेलवे स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रहा था जैसे ही ट्रेन आई तो मैंने अपना सामान ट्रेन में रखा और मैं अपनी सीट पर बैठा गया था। उस दिन मुझे सफर का पता ही नहीं चला और मैं रात को भोपाल पहुंच चुका था। मैं जब रात के वक्त भोपाल पहुंचा तो वहां से मैंने टैक्सी ली और मैं दीदी के घर पर चला गया। दीदी से मिलकर मुझे बड़ा अच्छा लगा था और दीदी भी बड़ी खुश थी।

काफी लंबे समय बाद मैं दीदी को मिल रहा था और दीदी ने मुझे कहा कि तुमने बहुत ही अच्छा किया जो तुम मुझसे मिलने के लिए आ गए। दीदी और मैं एक दूसरे से बातें कर रहे थे मैंने दीदी से कहा कि दीदी जीजा जी नजर नहीं आ रहे हैं तो दीदी ने मुझे बताया कि वह अपने काम के सिलसिले में कुछ दिनों के लिए कोलकाता गए हुए हैं। दीदी और जीजाजी भोपाल में रहते हैं और उनका परिवार अहमदाबाद में ही रहता है दीदी को भोपाल में रहते हुए करीब दो वर्ष हो चुके हैं। मैं भोपाल में 4 दिनों तक रुका और फिर मैं वापस अहमदाबाद लौट आया था। जब मैं अहमदाबाद वापस लौटा तो उस दिन मुझसे मां ने कहा कि बेटा आज मुझे पड़ोस में जाना है और मुझे आने में देर हो जाएगी। मैंने मां से कहा कि मां कोई बात नहीं मैं आज खाना बाहर से ही आर्डर करवा देता हूं मां ने कहा कि ठीक है बेटा तुम आज खाना बाहर से ही आर्डर करवा देना।

उस दिन मैंने खाने का आर्डर बाहर से ही करवा दिया था। जब मैंने खाने का आर्डर करवाया तो उस वक्त मां भी घर पर आ चुकी थी और हम लोगों ने उस दिन साथ में डिनर किया डिनर करने के बाद मैं अपने रूम में चला गया। मुझे उस दिन अपर्णा का फोन आया और जब मुझे उसका फोन आया तो मैंने उससे फोन पर काफी देर तक बातें की। अपर्णा से मेरी काफी लंबे समय के बाद बातें हो रही थी। हम दोनों एक दूसरे को काफी लंबे समय से मिले भी नहीं थे। उस दिन जब मेरी और उसकी बातें हुई तो हम लोगों को बड़ा ही अच्छा लगा और हम दोनों बड़े खुश थे जिस तरीके से हम दोनों की बातें हुई। एक दिन मैं और अपर्णा साथ में थे हम दोनों ने उस दिन मिलने का फैसला किया था। अपर्णा मेरे साथ मेरे ऑफिस में जॉब किया करती थी लेकिन अब वह ऑफिस से रिजाइन दे चुकी है और उसने अपने घर के नजदीकी एक स्कूल में पढ़ाना शुरू कर दिया है और वह उसी स्कूल में पढ़ाती है। मुझे बहुत ही अच्छा लगा जिस तरीके से मैं और अपर्णा एक दूसरे से बातें कर रहे थे और हम दोनों की बातें काफी देर तक हुई।

उस दिन हम दोनों एक दूसरे को मिलकर बड़े खुश थे और फिर मैं घर लौट आया था। कुछ ही दिनों में मुझे अपने ऑफिस के काम के सिलसिले में नागपुर जाना था और मैं अपने ऑफिस के काम के सिलसिले में नागपुर चला गया। जब मैं नागपुर गया तो वहां पर मुझे कुछ दिनों तक रहना पड़ा और मैं कुछ दिनों तक नागपुर में ही रहा उसके बाद मैं वहां से वापस लौट आया था। जब मैं वापस लौटा तो उस दिन मुझे अपर्णा ने मिलने के लिए बुलाया और हम दोनों की मुलाकात हुई। हम दोनों की मुलाकात बड़ी ही अच्छी रही। हम दोनों एक दूसरे को मिले तो हम दोनों बड़े ही खुश थे मैं बहुत ज्यादा खुश था जिस तरीके से मेरी और अपर्णा की मुलाकात हुई थी और हम दोनों एक दूसरे को मिले थे। हालांकि पहले हम दोनों के बीच ऐसा कुछ भी नहीं था लेकिन अब हम दोनों के बीच प्यार पनपने लगा था और हम दोनों एक दूसरे को प्यार करने लगे थे। इसी वजह से तो मेरे और अपर्णा के बीच की नजदीकियां बढ़ती ही जा रही थी और हम दोनों बड़े खुश है जिस तरीके से हम दोनों के बीच की नजदीकियां बढ़ने लगी थी।

हम दोनों एक दूसरे को डेट करने लगे थे मैंने कभी भी अपर्णा के बारे में ऐसा नहीं सोचा था लेकिन अब हम दोनों एक दूसरे को डेट कर रहे थे। हम दोनों एक दूसरे के साथ बड़े ही खुश हैं जिस तरीके से हम दोनों एक दूसरे के साथ होते हैं और एक दूसरे के साथ में टाइम स्पेंड किया करते हैं। अपर्णा और मै जब भी फोन पर बाते करते तो हमारी बात गरमा गरमा हो ही जाती थी। जिस से हम दोनो को ही अच्छा लगता और हम दोनो एक दूसरे के साथ सेक्स करने के लिए तडप रहे थे। जब मैंने एक दिन अपर्णा को कहा आज हम लोग सेक्स कर लेते है तो मै भी तडप रहा था और अपर्णा भी तडप रही थी। वह भी मेरे साथ सेक्स करने के लिए तडप रही थी और मैं भी अपर्णा को चोदना चाहता था। जब हम दोनो उस दिन साथ मे थे तो मैं अपर्णा के होंठो को चूम रहा था वह भी तडप रही थी और मैं भी तडप रहा था।

अब मैं अपने आप पर काबू नही कर पा रहा था और वह भी रह नहीं पा रही थी। वह मुझसे अपने नरम होंठो को टकरा रही थी और मेरी आग को बढा रही थी। जब हम दोनो गरम होने लगे तो मैंने उसे कहा तुम अपने कपडे उतार दो और उसने अपने कपडे उतार दिए थे जिस से वह रह नहीं पा रही थी। मैंने अब अपर्णा के स्तनो को भी दबाया और अपर्णा के नरम और गोल स्तन मुझे दबाने मे मजा आ रहा था वह मादक आवाज मे सिसकारिया ले रही थी और मुझे गरम खर रही थी। अपर्णा की चूत से पानी बहुत निकल रहा था वह अपने पैरो को आपस मे मिलाने लगी थी और उसकी गर्मी बढने लगी थी। मेरी आग भी बढ चुकी थी और मैंने अपर्णा की पैंटी को खोलते हुए उसकी चूत के अंदर अपने लंड को घुसा दिया था।

अब वह चिल्ला रही थी और मुझे भी मजा आ रहा था जब वह जोर से सिसकारियां ले रही थी और मेरा साथ देती। मैंने देखा अपर्णा की चूत से पानी बहुत ज्यादा मात्रा मे निकल रहा है इस वजह से उसे मजा आ रहा था और मुझे भी मजा आ रहा था। कुछ देर धक्के मारने के बाद मेरा लंड उसकी चूत मे गिर चुका था। मैंने लंड को बाहर निकाला तो मैंने देखा अपर्णा की चूत से खून भी निकल रहा था। मैं बढा खुश था और अपर्णा भी बहुत खुश थी जिस तरह से मैंने अपर्णा को चोदा था पर वह चाहती थी हम दोनो दोबारा सेक्स करे और हम दोनो ने दोबारा सेक्स करना शुरू किया। मैं अपर्णा की चूत के अंदर बाहर अपने लंड को किए जा रहा था। वह मुझसे अपनी चूतडो को मिलाए जा रही थी। मै और अपर्णा बहुत ही अच्छे से एक दूसरे का साथ दे रहे थे। मेरा माल अब अपर्णा की चूत मे गिर चुका था और मैं खुश था जिस तरह से मैंने अपर्णा की चूत के मजे लिए थे।




ramgad ke maa bete ki chudaihindu ladki ki chudaimast sex storyGeela chut image hole me land valao sat din chudai kahaniBur chodaee ful prda meristo me chudai hindi khani all maa ke sath jabarjastirandi chut ki chudairandi ki sexyread sexy storymon ne bate ko nahalate time ki xxx story hindigaon ki ladkibur chut ki kahanihindi sexy girl storylund and bur ki kabaddi ki storyfilmi duniagowa me sex lankiya kase karti hai pornhindi sex khaneyachote bhai ne jabardasti chodaबहन की चुची हाट न्यु स्टोरीindian randi khanaindian aurat ki chudaireal indian sex story hindi newछोटे मोटे लैंड से चुदाई की कहानियां सर्चbua ki beti ko chodaNew Safar .xxx .kahaniAndhere me msusi ki chudayi hindisexy didi ki chudaibaap beti chudai story in hindisex kahani with photoभाई बहन ने सेकस करते हुऐ विडीयो मुवी बनाईmast ram hindi sex storiचाची को चोदा उनके देवर का लडका कहानि indian maa ki chudai storybhabi ki bur ki garmi apne dever se mitwai letest cudai storyshadi me bhabhi ki chudaikuwari chut storysex story real hindiAantrvsna.comDidi ki chut me land kahanidhongi baba ki antarvasnachoot fadoxxx toilet krate larkiMausi ki ladki ki gand khet me chodi sex story read in marathipita beti ki chudaiwww.sex story bhabi jaberdastiखाती पिती लरकी चोदाईbhosdi chodसेकँसindian sex hindi storyडाकटरचोदाईहिदीमेchutiya storydesi randi chudaimaa ke sath sambhogbhahen ko dosto ne milkar choda hindi sexy storyaunty stories sexxxx desi kutta sex stori hindiChutade me ungalidost ki sister ki chudaichudai kahani sexmami ki chudai story hindiगिफ्ट मोटी गांड सेक्स स्टोरी हिन्दीdesi girl ki chudai ki kahanimami ki chudai ki kahani hindiHindi sexy store budhi nukrani ki chudaiभाबी ने सुहागरात की ट्रेनिंग दी सादी से पहलेdavar bhavi xxx kahni meeratantarvasna com in hindi 2010mami papa sexsex story hindi majagal sexa hindi sex storyAntrawasan ru majburi bahan ke storyसिस्टर से साड़ी और सुहागरात अन्तर्वासनाwww Antarvasna bestchudaikahanihindi sex sex sexDese hinde sexy hdchut hindi kahanimaa bete ki kahanidivya suhagrat sex kahaniबडे चुतड चोदना पसंद है कहानी